Advertisement
Advertisement

आई एस आई सिख बीज जे पी लीडर को लक्ष्य बनाने की ताक में

greqalपाकिस्तान अपनी गहरी बुरी कोशिशों से बाज नहीं आ सकता. हिंदू भाईचारे को जबरी इस्लाम कबूल करवाने के उपरांत पाकिसतानी खुफिया एजेंसियों के इशारों पर पाकिस्तान की सथानक सिखों को जबरी इस्लाम कबूल करवाने की चालबाज़ कोशिश शुरू की गई. यहाँ ही बस नहीं पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी भारत के पंजाब के सिख बीज जे पी लीडर सुखमिंदर पाल सिंह गरेवाल को धमकाने की कोशिश में लगी है। इस सबंध में गरेवाल को 20 दिसम्बर 8:44 पर फोन काल आई, जिस को टरूकालर की ओर से आई ऐस आई इस्लाम बताया गया। जिस उपरान्त बी जे पी के राष्ट्रीय लीडर की ओर से इसकी सूचना डी जी पी पंजाब के इलावा पंजाब इंटेलिजेंस को भी दी गई. गरेवाल की ओर से इस समस्या को बड़े ही दृड़ इरादे से निपटने का निर्णय किया गया। असल में जिन पंजाब के लीडर का जम्मू और कश्मीर का भारत पख्खी अवाम के लिए सहयोग रहा है, उन को किसी न किसी तरीक़े पाकिस्तान और आई ऐस आई की ओर से लक्ष्य बनाने की कोशिश जारी है। गरेवाल भी इन में से एक है। कुश समय पहले वह जम्मू और कश्मीर बी जे पी किसान मोरचा के कारजकरता रह चुके हैं। उन की ओर से श्रीनगर वादी में गुंडागरदी के ख़िलाफ़ आवाज बुलंद की गई और श्रीनगर के सिख, भारतीय किसान संघ के बड़ी गिनती में सदस्य बने। गरेवाल को टरूकालर से एक और काल मोबायल पर आई जिसका नाम था बच कर रहना. सुखमिंदर पाल सिंह गरेवाल का दृड़ इरादा डोलने वाला नहीं, उन्होंने शरारती अनसरों को ताकीद की कि ऐसी गिरी हुई हरकतों से पंजाब का माहौल कराब नहीं कर पाएंगे और न ही सिख बी जे पी लीडर का दृड़ इरादा कमज़ोर कर पाएंगे.