गुंडों का समर्थन करने वाले संस्थान पंजाब को गुंडों के रहमो करम पर छोड़ना चाहते हैं ?

pjbअमेरिका में स्थापित हुई सिख संस्था सिख्खस फार जसटिस, पंजाब में मारे गये गैंगस्टरों की वकालत के लिए आगे आई। मारा गया गैंगसटर वह था, जो अपनी ज़रूरत के लिए जुर्म को अंजाम देता रहा था। विक्की गौंडर से सहानुभूति जताने के लिए संस्थान की ओर से कई बयान दागे गये। जिकरयोग है कि गौंडर पंजाब पुलिस की ओर से ऐनकाऊंटर में अपने साथी समेत मारा गया। पंजाब के मुख्य मंत्री कैपटन अमरिंदर सिंह की ओर से गैंगस्टरों के ख़ात्मे के लिए दिये गये पुलिस निर्देशों के अनुसार बड़े स्तर पर कार्रवाई की गयी थी, क्युंकि इन दलों की ओर से आतंक का माहौल बनाया हुआ था। संस्थान की ओर से यू ऐस सटेट सचिव और डिपार्टमेंट आफ्फ होमलैंड सक्युरिटी को अमरिंदर सिंह का वीज़ा बरखास्त करने की दरख़ासत सैक्शन 212 ए 3 ई 3 आई ऐन ए के तहत दी गई. जिस तहत इल्ज़ाम लगाये गये कि, कैपटन की ओर से नजायज धक्केशाही और ऐनकाऊंटर की वारदातें करवाईं जा रही हैं। कैपटन की ओर से उठाये गये कदमों की सराहना करनी बनती है। उन की ओर से मुजरिमों को उन की सही जगह दिखाई गयी है। सुखदेव सिंह भूतपूर्व एस एस पी की ओर से उन संस्थानों की निंदा की गई, जो ऐसे गुंडा अनसर लोगों की हमायत करतीं हैं। उन्होंने सवालिया चिह्नन लगाते हुए कहा कि, क्या ऐसे संस्थान पंजाब को लगातार गुंडों के रहमो करम पर छोड़ना चाहते हैं ? ऐस ऐफ जे क़ानूनी सलाहकार गुरपतवनत सिंह पंनू की ओर से होमलैंड संरक्षण को भेजी गई दरख़ासत गैंगसटर विक्की गौंडर और प्रेमा लाहोरिआ के उपलक्ष में थी, जिस में इन के ख़ात्मे के लिए की गई पुलिस कार्रवाई को सोची समझी हत्या दर्शाया गया था, जबकि उपरोक्त दोनों गैंगस्टरों का हाथ कई मासूम लोगों के खून से रंगे हुए थे। समाज सेवक सरबजीत सिंह ने हैरानी जताते हुए सिख संस्थान की कार्रवाई पर सवालिया चिह्नन लगाते हुए पूछा कि, खालिसतान की हमायत करने वाली संस्था क्यों गुंडा अनसर को प्रोतसाहित कर रही है। उन्होंने कहा कि, सरकार को अपनी कार्रवाई तेज करने की जरूरत है, इस से पहले कि देर हो जाए, सरकार की ओर से अलगाववाद फैलाने वालों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करने की जरूरत है। सिख स्पोक्समैन कैपटन हरचरन सिंह ने कहा कि, गुंडा अनसर को समर्थन देना पंजाबीअत के सिद्धान्तों के विपरीत है और अगर ऐसी कार्रवाइयों को तुरंत नकेल न डाली गई तो इसके नतीजे गंभीर हो सकते हैं। इस के लिए जलद से जलद ऐसा प्रचार सोशल मीडिया से रोकने के लिए इन से जुड़े सोशल मीडिया अकाऊंट को बंद करने की भी जरूरत है।

नोट : किसी भी व्यक्ति विशेश के ब्यान अथवा विचारों से संपादक की सहमति होनी जरूरी नहीं.