wind_cyc_super_nov2017_ita_320x50

अल्पसंखियों को जबरदस्ती इस्लाम कबूल करवाना पाकिस्तान की घटिया सोच – चावला

chwla

पूर्व विधायक लक्ष्मीकांत चावला

  दूसरों की मज़बूरी का फायदा उठा उन के धर्म को बदलना शर्मनाक

पाकिस्तान के एक गांव के 250 गांवों से उठी ज़बरदस्ती इस्लाम स्वीकार करवाने की घटना बहुत शर्मनाक है। इस भयानक घटना को हफीज गुलाम मुहम्मद सोहो मुहाम्मदन कादरी के अंजाम दिया , जो बाबा साईं के नाम के रूप में जाना जाता है। पाकिस्तानी मीडिया के रिपोर्टर के अनुसार, महिलाओं, पुरुषों और नाबालिग बच्चों सहित 250 लोगों ने पाकिस्तान में इस्लाम कबूल करने को मज़बूर कर दिया। सिंध जिले में चौहार जमाली के गांव की इस घटना से विश्व हिन्दू समाज में रोष का माहौल पाया जा रहा है ।
पाकिस्तानी मीडिया में, बाबा साहेब नायक दिखाया गया है और यह स्पष्ट कर दिया गया है कि पाकिस्तानी हिन्दुओं ने अपनी इच्छा से इस्लाम को स्वीकार कर लिया है। वीडियो में दिखाया गया है कि 250 हिंदुओं कुरान पढ़ रहे हैं और वे इस्लाम द्वारा खुद बहुत सम्मान के साथ प्रतिक्रिया कर रहे हैं , इस्लाम को स्वेच्छा से स्वीकार किया गया है । कलमा पढ़ने के लिए दिखाए जा रहे हिंदु बहुत खुश हैं , साईं का मानना था कि इस्लाम में अब तक 10000 हिंदुओं को परिवर्तित कर दिया है और ये सारा घटना क्रम स्वेक्षा से निभाइए गया है किसी के साथ कोई ज़बरदस्ती नहीं की जा रही ।
पाकिस्तानी मीडिया अनुसार बाबा साई हिंदुओं को प्यार से सिंधी रस्मो रिवाज़ के अनुसार अज़राक के तहत स्वीकार्य प्रस्ताव इस्लाम काबुल करवाता है। इन लोगों को नकद, घरेलू सामान आदि तयोहार सवरूप दिए जाते हैं । चावला के मुताबिक, यह किसी के दुर्भाग्य एवं मज़बूरी का लाभ लेना एक घृणित कदम है और ऐसी हरकत गिरी हुई सोच को सपषट करती है जो धरम परिवर्तन को मजबूर करता है ये उनकी घटिया सोच का प्रमाण है ।
पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू गरीब हैं और उनकी मदद करना पाकिस्तान का कर्तव्य है। चावला ने कहा कि पाकिस्तान और अंतर्राष्ट्रीय दबाव जरूरी हैं, ताकि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लोगों के अधिकार सुरक्षित रहें। अनुभवी पाकिस्तान मुद्दों के माहिर मेजर गुरमीत सिंह औलख पाकिस्तानी कानून के अनुसार, इस्लाम में परिवर्तित हुए हिंदुओं का लौटने के लिए कोई रास्ता नहीं है, ऐसा कोई भी प्रयास करने वाले को स्थानीय कानून के तहत मौत की सजा सुनाई जाती है। उन्होंने मोदी सरकार को इस संबंध में अंतर्राष्ट्रीय बैठक आयोजित करने का प्रस्ताव दिया और कहा कि देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को पाकिस्तान सरकार के साथ इस मुद्दे को उठाना चाहिए क्योंकि हिंदुओं की मजबूती का लाभ उठाया जा रहा है और षड्यंत्रों या लालच तहत इन्हे इस्लाम स्वीकार करवाया जा रहा है।