नक्सलियों ने यात्रियों को उतारकर स्वयं सहायता समूह की बस में लगाई आग

bus-fire

दंतेवाड़ा. नक्सलियों ने बुधवार सुबह झीरम से छिंदनार जा रही स्वयं सहायता समूह की ओर से संचालित एक यात्री बस में आग लगा दी। नक्सलियों ने आगजनी से पहले बस में बैठे यात्रियों को नीचे उतार दिया। फिर उन्हें 100 मीटर अंदर जंगल में ले गए और सभी के मोबाइल छीन लिए। वारदात के बाद चालक और परिचालक सीआरपीएफ कैंप पहुंचे और सूचना दी।

5 मिनट में वारदात को दिया अंजाम, फिर इंद्रावती नदी पार कर भाग निकले
स्वयं सहायता समूह नवा कसोली की ओर से संचालित जन सुविधा एक्सप्रेस बुधवार सुबह झीरम से 7 यात्रियों को लेकर छिंछनार जा रही थी। अभी बस सुबह करीब 8.45 बजे कसोली-छिंदनार के बीच पहुंची ही थी कि 12 की संख्या में पहुंचे नक्सलियों ने उसे रुकवा लिया।

नक्सलियों ने बस में सवार सभी यात्रियों के मोबाइल छीन लिए और उन्हें बंधक बनाकर जंगल में 100 मीटर अंदर ले गए। इस दौरान बाहर सड़क पर खड़े नक्सलियों ने साथ लाए पेट्रोल और लकड़ियां डालकर बस को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद इंद्रावती नदी की ओर भाग निकले।

जिस जगह पर नक्सलियों ने वारदात की वह सीआरपीएफ कैंप से महज 2 किमी की दूरी पर है। महज 5 मिनट में नक्सली वारदात को अंजाम देकर भाग निकले। इसके बाद बस का चालक और परिचालक सीआरपीएफ कैंप पहुंचे और जवानों व पुलिस को सूचना दी।

यात्रियों ने पुलिस को बताया कि नक्सलियों में 2 महिलाएं भी शामिल थीं। सबके पास चाकू और अन्य छोटे हथियार थे। एक नक्सली पिस्टल लिए हुए था। वारदात स्थल से छिंदनार महज एक किमी की दूरी पर है। सभी यात्री नक्सलियों के जाने के बाद पैदल ही वहां चले गए।

नक्सली हमेशा इस तरह की वारदात को रात के अंधेरे में ही अंजाम देते आए हैं। ऐसे में सुबह-सुबह हुई इस वारदात ने आसपास के लोगों में दहशत फैला दी है। बीच सड़क पर सीआरपीएफ कैंप के पास ही नक्सलियों ने बस में आगजनी की है। बस का संचालन करने वाला स्वयं सहायता समूह जिला पंचायत सदस्य चैतराम अटामि का है।