wind_cyc_super_india_marzo2017_ing_728x90

नोटबंदी में भारत को पूर्ण समर्थन देने के लिए एन आर आई आगे आएं

rs

आज पूरे भारत में नोटबंदी के कारन उन लोगों के हाथ पैर फूले हुए हैं जो ना तो देश के विकास में सहयोग देने में आगे हैं और ना ही देश के किसी भी काम के प्रति ईमानदार हैं. ऐसे लोग सरकार का टैक्स चोरी कर बड़ी धन राशि को घर में ऐसे दबा के बैठे थे जैसे कि वह पैसा इन लोगों ने अपने खेतों में पैदा किया हो. जब से मोदी जी की सरकार होंद में आई है तब से सरकार ने काले धन में सुधार लाने के लिए ऐसे बहुत से कार्य किये हैं जिस के बारे में कला धन छुपाने वाले स्वपन में भी नहीं सोच सकते थे.

केंदर सरकार ने काले धन को जिस सराहनीय कारवाई से निपटाया है वह सच में ही काबले तारीफ़ है. हर भारती यह चाहता है कि देश में उस को हर एक सहूलियत प्राप्त हो, जिस में कि खर्च भी कम हो, सरकार भारती नागरिकों का पूरा ख्याल रखे, सरकारी दफ़्तरों, स्कूलों और बाकी सरकारी पदों पर सरकार भारती नागरिकों को अच्छी नौकरी प्रदान करे, किसी भी भारती को देश में किसी भी समस्या का सामना ना करना पड़े, किन्तु कभी हमने यह सोचने की कोशिश की है कि इस के लिए सरकार के पास पैसा कहाँ से आएगा? सरकारी खजाने खाली क्यों रहतें हैं? 100 में से 90% लोग भारत में टैकस चौरी करने के चक्कर में ही उलझे रहतें हैं, वह हर रोज यही सोचतें हैं कि उनहोंने अपनी आमदन को कैसे सरकार से छुपा के रखना है. विचित्र बात तो यह है कि सरकार भारत देश को सिरफ़ 10% लोगों द्वारा भरे टैकस से समूह भारत के लोगों के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए यतनशील है. अगर 90% भारती लोग अपने देश की सरकार को अपनी पूरी इमानदारी से टैकस दें तो वह दिन दूर नहीं जब आर्थिक दृष्टिकोण से भारत विशव का नंबर एक खुशहाल देश बन सभ के लिए एक मिसाल बन जायेगा.

प्रवासी भारतीयों को केंदर सरकार के नोटबंदी के फैसले का भारी समर्थन करते हुए इस फैसले में सरकार का भरपूर सहयोग देना चाहिए। हम लोग विदेशों में जितने भी मील पत्थर गाढ़ लें, किन्तु जब तक हमारा अपना भारत देश विकास में पीछे है, हमारी उन्नति भी अधूरी ही है. नोटबंदी समय की मांग अनुसार सरकार का सभ से श्रेष्ठ निर्णय है, जिस का एहसास आने वाले समय में सभ को अपने आप महसूस होगा.