wind_cyc_super_nov2017_ita_320x50

सिख तख्त हज़ूर साहिब और पटना साहिब को छोड़ देंगे? – सुखदेव सिंह

पूर्व एस एस पी सुखदेव सिंह

पूर्व एस एस पी सुखदेव सिंह

पंजाबी समुदाय को आपस में लड़ने और अलगाववाद पैदा करने के लिए विदेशी ताकतें संघर्ष में जुटी हुई हैं । पूर्व पुलिस अधयकष सुखदेव सिंह ने बताया की पंजाब के खिलाफ खास कर वो लोग हैं जिनके खिलाफ मुकदमे भारत की अदालतों मैं अभी फैसले का इंतज़ार कर रहे हैं। ऐसे लोग पंजाब नहीं आना चाहते और पंजाब के खिलाफ प्रोपोगैंडा करना उनका सुभाव बन चूका है। पंजाब एक समृद्ध राज्य है, इसके बारे में कोई संदेह नहीं है, यहां सभी धर्मों के लोग एकजुट हो कर रहते हैं। जिन्हे शक्ति और राज्य की लाल्सा लोकतंत्र शक्ति के माध्यम से प्राप्त नहीं है, वो वोट हासिल करने के लिए लोगों को गिमरह कर अपनी तरफ आकर्षित करने में लगे हैं, लेकिन पंजाब राज्य के लोग अधिक जागरूक और बुद्धिमान हैं, क्योंकि वे लंबे समय तक काले दिनों की राजनीति को देखा चुके हैं । खालिस्तान की मांग को अस्वीकार कर पूर्व एस एस पी सुखदेव सिंह ने यह स्पष्ट किया कि सिख जहां कनाडा, ब्रिटेन, अमेरिका, उच्च पदों पर बैठे हैं और दुनिया के हर कोने में मौजूद हैं वे भारत में ट्रांसपोर्ट यां और मुंबई , बिहार , कोलकाता जैसी जगहों पर कई तरहाँ के वयापार में व्यस्त हैं , कया ऐसे लोग भारत को छोड़ खालिस्तान में जा पाएंगे? । इनमें से कई विदेशी देशों में मंत्री हैं और बहुत से लोग भारत में परिवहन या कई अन्य व्यवसाय करने के लिए विदेश में बैठे हैं। यह समझने के लिए कि जो लोग बिहार और बंगाल की विदेशी या भारतीय राज्यों में उच्च पदों पर बैठे हैं और व्यापार कर रहे हैं, वे खालिस्तान में निवास करेंगे ? उन्होंने कहा कि बड़ी बात यह है कि क्या हम तख्त हज़ूर साहिब और पटना साहिब को छोड़ देंगे? 1984 के दौर को अगर यद् करें टोन रोंगटे खड़े हो जाते हैं , जिसमें 6 बजे के दौरान सभी दुकानें, बाजार, व्यापार लकवा मार जाता था , लेकिन अब आधी रात बहुत सारे बाजार दुकाने खुली रहती हैं , चहल-पहल बनी रहती है और सड़कों पर 24 घंटे यातायात बहाल है । उन्होंने कहा कि पंजाब को आतंकवाद से नफरत है , 42 वर्षीय बलविंदर सिंह, जो भारत में आतंकवाद फैलाने की योजना बना रहा था, उस को अमेरिकी अदालत ने 15 साल की सजा सुनाई। सुखदेव सिंह ने यह स्पष्ट किया कि आतंकवाद किसी भी देश को बर्दाश्त नहीं है, चाहे वह भारत या अमरीका है आतंकवाद दुनिया के कई देशों में मौजूद है, लेकिन आतंकवादी – आतंकवाद कहीं भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा । उन्होंने कहा कि आतंकवाद किसी के लिए फायदेमंद नहीं है देश की आर्थिक गति धीमी हो जाती है , जैसे पड़ोसी देश पाकिस्तान यां अन्य देश कोई भी देश आतंकवाद के कारन अपनी अर्थिम गति खो चूका है ।